South Asian Games: भारत ने 15 गोल्ड समेत जीते कुल 29 पदक, अंकतालिका में स्थिति की बेहतर

290

भारत ने बुधवार को 13वें दक्षिण एशियन गेम्स में कई मेडल अपने नाम किए हैं. मंगलवार को भारत ने कुल मिलाकर 27 मेडल जीते हैं जिसमें 11 गोल्ड हासिल किए थे. भारत अब तक इन खेलों में 44 मेडल जीत चुका है. भारत ने ताइक्वांडो, टेबल टेनिस और बैडमिंटन में मेडल हासिल किए हैं. एथलेटिक्स में भारत ने दस पदक (पांच स्वर्ण, तीन रजत और दो कांस्य) अपने नाम किये जबकि छह टेबल टेनिस और ताइक्वांडो, पांच ट्रायथलन और दो खो खो में जीते .

ताइक्वांडो में भारत ने जीते तीन गोल्ड मेडल


ताइक्वांडो इवेंट में दबदबा बनाते हुए तीन स्वर्ण सहित कुल छह पदक अपने नाम किये. लैतिका भंडारी (अंडर 53 किग्रा), जरनेल सिंह (अंडर 74 किग्रा) और रूदाली बरूआ (ओवर 73 किग्रा) ने स्पर्धाओं में स्वर्ण पदक जीते. सौरव और गंगजोत ने पुरुषों की अंडर 63 किग्रा और महिलाओं की 62 किग्रा में रजत पदक प्राप्त किये जबकि चैतन्य इनामदार ने पुरुष ओवर 86 किग्रा वर्ग में ब्रॉन्ज पदक हासिल किया. मंगलवार को ताइक्वांडो खिलाड़ियों ने एक स्वर्ण और तीन ब्रॉन्ज पदक जीते थे.

भारतीय पुरुष, महिला खो-खो टीमों ने सैग खेलों में स्वर्ण पदक जीते


भारतीय पुरुष और महिला खो-खो टीमों ने क्रमश: बांग्लादेश और नेपाल को हराकर स्वर्ण पदक अपनी झोली में डाले. वर्ष 2016 में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय पुरुष टीम ने बांग्लादेश को पारी और सात अंक से जीत हासिल की और उनका स्कोर 16-9 रहा. दीपक माधव भारत के लिये शीर्ष स्कोरर रहे जिन्होंने टीम के लिये पांच अहम विकेट लिये और वह मैट पर दो घंटे से ज्यादा समय तक टिके रहे.

महिलाओं के फाइनल में कप्तान नसरीन ने अगुआई करते हुए पांच अंक जुटाये जबकि उनकी साथी काजल भोर ने भी पांच अंक जोड़कर अहम योगदान किया. भारतीय टीम ने 17-5 के स्कोर से पारी और 12 अंक से जीत हासिल की. भारत ने दोनों वर्गों में स्वर्ण जीते तो बांग्लादेश को पुरुष स्पर्धा में रजत पदक से संतोष करना पड़ा जबकि नेपाल तीसरे स्थान पर रहा. महिला वर्ग में नेपाल ने दूसरा स्थान हासिल किया जबकि बांग्लादेश ने अपना अभियान ब्रॉन्ज से समाप्त किया.

भारत को टेबल टेनिस पुरुष और महिला युगल में स्वर्ण


भारत ने टेबल टेनिस प्रतियोगिता की पुरुष एवं महिला डबल्स स्पर्धाओं में बुधवार को स्वर्ण और रजत पदक जीते. पुरुष डबल्स फाइनल में हरमीत देसाई और एंथनी अमलराज ने हमवतन सानिल शेट्टी और सुधांशु ग्रोवर को 8-11, 11-7, 11-7, 11-5, 8-11, 12-10 से हराया. नेपाल के सांतू श्रेष्ठ और विनेश खानिया ने ब्रॉन्ज पदक जीता.

महिला डबल्स फाइनल में मधुरिका पाटकर और श्रीजा अकुला ने सुत्रिता मुखर्जी और अयहिका मुखर्जी को 2-11, 11-8, 11-8, 11-6, 5-11, 11-5 से पराजित करके खिताब जता. श्रीलंका की विशाखा मधुरंगी और हंसिनी पुलिमा ने ब्रॉन्ज मेडल हासिल किया. मिक्स्ड डबल्स डबल्स में हरमीत और सुत्रिता मुखर्जी ने अमलराज और अयहिका को 11-6, 9-11, 11-6, 11-6, 11-8 से हराकर गोल्ड पदक जीता.


भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों के दक्षिण एशियाई खेलों में आठ पदक पक्के


भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों ने अपना दबदबा बनाये रखा और चार व्यक्तिगत , चार डबल्स वर्ग के सेमीफाइनल में प्रवेश करके पदक पक्के कर लिए . शीर्ष वरीयता प्राप्त सिरिल वर्मा ने पाकिस्तान के मुराद अली को 27-12, 21-17 से हराकर एकल क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई . महिला सिंगल्स में 16 बरस की गायत्री गोपीचंद ने दूसरी वरीयता प्राप्त पाकिस्तान की माहूर शाहजाद को 21-15, 21-16 से मात दी .

शीर्ष वरीयता प्राप्त अश्मिता चालिहा ने पाकिस्तान की पलवाशा बशीर को 21-9, 21-7 से परास्त किया. आर्यमन टंडन ने श्रीलंका के रंतुष्का करूणातिलके को 21-17, 21-17 से हराकर पुरुष एकल सेमीफाइनल में जगह बनाई . महिला डबल्स में कुहू गर्ग और अनुष्का पारिख और मेघना जक्कमपुडी और एस नीलाकुर्ती ने भी अंतिम चार में प्रवेश किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here