पाथिराना ने निकाली 175 की रफ्तार; पर नहीं टूटा अख्तर का रिकॉर्ड, जानें क्या है मामला

115

क्रिकेट में जब भी तेज गेंदबाजी की बात आती है तो शोएब अख्तर याद आते हैं. पाकिस्तान के इसी गेंदबाज के नाम क्रिकेट में सबसे तेज गेंद फेंकने का रिकॉर्ड है. उनका यह रिकॉर्ड रविवार को अंडर-19 क्रिकेट वर्ल्ड कप में टूटते-टूटते रह गया. टूर्नामेंट में भारत और श्रीलंका के बीच माथिसा पाथिराना ने यशस्वी जायसवाल को 175 किमी/घंटे की रफ्तार से गेंद फेंकी. यह सबसे तेज गेंद का नया रिकॉर्ड हो सकता था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

अंडर-19 क्रिकेट वर्ल्ड कप में रविवार को भारत का पहला मुकाबला श्रीलंका से हुआ. इस मैच में श्रीलंका के युवा तेज गेंदबाज माथिसा पाथिराना ने 175 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गेंद फेंकी. उन्होंने यह गेंद भारत के यशस्वी जायसवाल को फेंकी जो वाइड थी. इस गेंद के बाद ही शोएब अख्तर की चर्चा भी होने लगी.

बाद में पता चला कि गेंद की रफ्तार बताने वाली मशीन में कुछ गड़बड़ी थी. इसके कारण ही मशीन ने माथिसा पाथिराना की गेंद की स्पीड 175 किलोमीटर प्रति घंटे बताई थी. इस तरह शोएब अख्तर का सबसे तेज गेंद फेंकने का विश्व रिकॉर्ड बच गया. उन्होंने 2003 में 161.3 किलोमीटर (100.23 मील) प्रति घंटे की तेजी से गेंद फेंकी थी.

शोएब अख्तर ने इंग्लैंड के खिलाफ 2003 के वर्ल्ड कप मैच में 161.3 किमी/घंटे की तेजी से गेंद फेंकी थी. यह अब भी क्रिकेट इतिहास में दर्ज सबसे तेज गेंद है. ऑस्ट्रेलिया के ब्रेट ली और शॉन टैट, अख्तर के रिकॉर्ड के थोड़े करीब जरूर पहुंचे, लेकिन इसे तोड़ने में नाकाम रहे.

17 साल के माथिसा पाथिराना इससे पहले सितंबर 2019 में चर्चा में आए थे. उन्होंने कॉलेज लेवल के एक मैच में महज 7 रन देकर 6 विकेट लिए थे. पाथिराना का ऐक्शन श्रीलंका के दिग्गज लसिथ मलिंगा से काफी मिलता जुलता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here