भारत में भी कोरोना वायरस की दहशत, जानें इसके लक्षण, रखें ये सावधानी

448

चीन में फैल रहा जानलेवा 2019-एनसीओवी कोरोना वायरस से अब तक 80 मौतें हो चुकी है। 11 देशों में फैल चुके इस वायरस की दस्तक अब भारत में भी हो गई है। यह वायरस उत्तर प्रदेश, बिहार के बाद अब दिल्ली तक भी पहुंच गया है। बिहार से कोरोना वायरस के चार जबकि उत्तर प्रदेश से एक संदिग्ध मरीज मिला है। दिल्ली में भी संदिग्ध मरीजे मिले हैं जिन्हें आरएमएल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। आइए जानें क्या है यह वायरस और इससे बचने के उपाय:

सबसे पहले कोरोनावायरस 1960 में सामने आया था। लेकिन यह कोई नहीं जानता किय कहां से आया है। यह वायरस जानवरों और इंसान दोनों को संक्रमित कर सकता है। कोरोनावायरस सांस संबंधी इंफेक्शन से जुड़ा हुआ है। इसके लक्षणों में नाक का बहना, खांसी, गले में खराश और बुखार शामिल हैं।

अधिकतर मामलों में आप नहीं जान सकते हैं कि आपको सामान्य बुखार है या फिर कोरोनावायरस। इसके लिए आपको लैब टेस्ट कराना होगा। निमोनिया, फेफड़ों में सूजन, छींक आना, अस्थमा का बिगड़ना भी इसके लक्षण हैं। जिसमें नाक और गले का टेस्ट और ब्लड टेस्ट होंगे। अगर कोरोनावायरस इंफेक्शन आपके सांस की नली और फेफड़ों तक पहुंच गया है तो यह निमोनिया का कारण बन सकता है। खास उन लोगों में जो बूढ़ें है और जिन्हें दिल की बीमारी है या फिर जिनका प्रतिरक्षा तंत्र कमजोर है। इससे बचने के लिए किसी बीमार, जुकाम, निमोनिया से ग्रसित व्यक्ति के संपर्क में आने से बचें। मास्क पहनें। अपनी आंखों, नाक और मुंह को न छुएं। हाथों को बार बार अच्छे से साबुन से धोएं।

इसका अभी तक कोई इलाज नहीं है। न तो कोरोना वायरस ( CoV ) की कोई वैक्सीन बनी है और न ही 2019- nCoV की। पिछले सप्ताह @WHO आपात समिति ने निर्णय लिया कि #coronavirus से होने वाला खतरा फिलहाल एक वैश्विक स्वास्थ्य एमरजेंसी नहीं है, पर प्रकोप की जांच-पड़ताल करने, निगरानी बढ़ाने और रोकथाम के उपायों को सुदृढ़ करने के लिए टीम तैयार की गई है।

कोरोना वायरस के संक्रमण को कम करने के लिए ये उपाय करें
अपने हाथ साबुन और पानी या अल्कोहल युक्त हैंड रब से साफ करें।
खांसते या छींकते वक्त अपनी नाक और मुंह को टिश्यू या मुड़ी हुई कोहनी से ढकें।
जिन्हें सर्दी या फ्लू जैसे लक्षण हों, उनके साथ करीबी संपर्क बनाने से बचें।
मीट और अंडों को अच्छे से पकाएं।
जंगल और खेतों में रहने वाले जानवरों के साथ असुरक्षित संपर्क न बनाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here