Bird Flu के दौर में चिकन है खाना तो टेंशन नहीं, जानें कैसे पकाएं कि जायका भी मिले और सुरक्षित भी रहे

13

विश्व स्वास्थ्य संगठन की सलाह है कि वायरस मुक्त और सुरक्षित करने के लिए 70 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा तापमान पर 30 मिनट तक कच्चा मांस पकाना चाहिए क्योंकि उससे वायरस निष्क्रिय हो जाता है. सफाई के साथ पकाए गए पोल्ट्री का मांस और अंडों का खाना सुरक्षित है.

पिछले 10 दिनों में बत्तख, कौआ, प्रवासी पक्षियों समेत लाखों पक्षियों की मौत बर्ड फ्लू के चलते हो गई है. कोरोना वायरस महामारी वक्त एवियन इन्फलुएन्जा ने देश में चिकन और अंडे खाने के बारे में चिंता बढ़ा दी है. सवाल है कि क्या बर्ड फ्लू मांस खाने से फैल सकता है? क्या पोल्ट्री या पोल्ट्री प्रोडक्ट्स खाना सुरक्षित है? आपको कच्चे चिकन को कैसे संभालना चाहिए?

क्या बर्ड फ्लू मांस खाने से फैल सकता है?

आसान भाषा में आप इस तरह समझ सकते हैं कि बीमारी मुख्य रूप से पक्षियों को प्रभावित करती है. फिर भी इंसान बीमार पक्षियों के सीधे संपर्क में आने से संक्रमित हो सकता है. लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि इंसानों से इंसानों के बीच संक्रमण का प्रसार बहुत ज्यादा स्पष्ट नहीं है. ठीक से पकाए गए पोल्ट्री या पोल्ट्री प्रोडक्ट्स खाने के बाद अभी तक कोई संक्रमित नहीं पाया गया है. केंद्र सरकार ने अपने संशोधित एक्शन प्लान में कहा है कि तब भी जब ये खाद्य पदार्थ बर्ड फ्लू वायरस से दूषित थे.

चिकन को कैसे बनाएं सुरक्षित?

विश्व स्वास्थ्य संगठन की सलाह है कि वायरस मुक्त और सुरक्षित करने के लिए 70 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा तापमान पर 30 मिनट तक कच्चा मांस पकाना चाहिए क्योंकि उससे वायरस निष्क्रिय हो जाता है. सफाई के साथ पकाए गए पोल्ट्री का मांस और अंडों का खाना सुरक्षित है. जानकारों का कहना है कि सीधे दुकान से मांस खरीदते वक्त चंद बातों की सावधानियां जरूर बरती जानी चाहिए.

  • अपना स्टेनलीस स्टील का बर्तन ले जाएं और उसमें मांस को इकट्ठा करें.
  • दुकान पर मांस को पैक करने के लिए प्लास्टिक बैग का इस्तेमाल न करें.
  • घर पहुंचते के साथ ही चिकन को फौरन साफ करना शुरू कर दें.
  • जहां तक हो सके बाजार में पोल्ट्री की दुकान पर जाने से परहेज करें.
  • पोल्ट्री फार्म या मांस का बाजार जाना पड़े तो मास्क, ग्लोव्स पहने रहें.
  • पक्षी के पंख को न छूने से बचें. बीमार और मृत पक्षियों के पास न फटकें.

कच्चा मांस पकाते वक्त बरतें सावधानी

  • गर्म पानी और साबुन से अपने हाथ की सफाई या सैनेटाइज करें.
  • टोटी से बहते पानी के नीचे कच्चा मांस की सफाई से परहेज करें.
  • गंदे पानी से धोने पर मांस के दूषित होने की आशंका ज्यादा हो जाती है.
  • जहां तक हो सके आरओ पानी का मांस साफ करने के लिए इस्तेमाल करें.
  • आरओ पानी नहीं होने पर पानी को गर्म करें और ठंडा होने के बाद मांस धोएं.
  • कच्चा पोल्ट्री, अंडा संभालने के बाद और पहले गर्म पानी, साबुन से हाथ धोएं.
  • कच्चा मांस पकाने के लिए अलग बर्तन का इस्तेमाल करें, पूरी तरह पक जाए.
  • अंडा या चिकन 70 डिग्री से ज्यादा के तापमान पर पकाने से वायरस मर जाता है.
  • पकाने वालों को पोल्ट्री का सभी हिस्सा अच्छे से पकाने पर ध्यान देना चाहिए.

सफाई के बाद कब तक मांस को स्टोर किया जा सकता है?

मांस खरीदारी के बाद फौरन पकाने की सलाह दी जाती है. लेकिन मांस को साफ करने के बाद आप उसे 24 घंटे के लिए सुक्षित कर सकते हैं. पोल्ट्री के प्रकोप वाले इलाकों में कच्चे अंडों को फूड में नहीं इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि गर्मी उसके काम नहीं आ सकेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here