सावधान! रात में बहुत ज्यादा रोशनी से बढ़ सकता है थायराइड कैंसर का खतरा

50

कैंसर गंंभीर बीमारियों में से एक है. अमेरिकन कैंसर सोसाइटी में अध्धयन के दौरान पाया गया कि थायराइड कैंसर के जोखिम के साथ रात के समय कृत्रिम प्रकाश की अधिकता होती है.

कैंसर एक बेहद खतरनाक बीमारी मानी जाती है, अपने जिसका इलाज ना के बराबर है और अगर इलाज है भी तो बहुत महंगा होता है जो सामान्य आय का इंसान अफोर्ड नहीं कर पाता है. कैंसर शब्द के नाम से ही लोगों का दिल दहल जाता है. ये तो हम सब जानते है कि कैंसर की कई स्टेज होती है और कैंसर कई तरह के होते है. जैसे बोन कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, लंग कैंसर, थायराइड कैंसर. अमेरिकन कैंसर सोसाइटी के एक सहकर्मी की समीक्षा में हाल ही में ऑनलाइन प्रकाशित अध्ययन में पाया गया कि थायराइड कैंसर के जोखिम के साथ रात के समय कृत्रिम प्रकाश की अधिकता होती है. इस पर शोधकर्ताओं ने कहा कि कुछ स्तन कैंसर थायरॉयड कैंसर के साथ एक सामान्य, हार्मोन-निर्भर तंत्र साझा कर सकते हैं.

वहीं वो इस बात पर जोर देने के लिए तैयार हैं कि उनके निष्कर्ष ये साबित करने के लिए सुसज्जित नहीं हैं कि रात का प्रकाश थायराइड कैंसर का कारण बनता है, केवल यही एक संघ है. उन्होंने कहा कि किसी व्यक्ति के हार्मोन और प्राकृतिक सर्कैडियन ताल में प्रकाश-आधारित व्यवधान खेलने पर हो सकता है.

शोधकर्ता कियान जिओ ने एक पत्रिका में बताया कि रात में प्रकाश जोखिम की भूमिका का समर्थन करते हुए और सर्केडियन व्यवधान को देखते हुए, हम आशा करते हैं कि हमारा अध्ययन शोधकर्ताओं को रात में प्रकाश और कैंसर और अन्य बीमारियों के बीच संबंधों की जांच करने के लिए प्रेरित करेगा. वहीं एक थायराइड विशेषज्ञ ने अध्ययन के लिए कहा कि थायराइड कैंसर संयुक्त राज्य अमेरिका में दशकों से लगातार बढ़ रहा है और नए शोध 1970 और 2010 के बीच संयुक्त राज्य अमेरिका में थायरॉयड कैंसर की बढ़ती घटनाओं के लिए हमें एक और स्पष्टीकरण प्रदान करने का प्रयास करते हैं. डॉ गैडी हर-एल ने बताया कि वो न्यूयॉर्क शहर के लेनॉक्स हिल अस्पताल में सिर और गर्दन की सर्जरी और ऑन्कोलॉजी के प्रमुख हैं साथ ही कहा कि कुछ वृद्धि को बेहतर निदान और पहचान के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है, लेकिन निदान में वृद्धि थायराइड कैंसर की घटनाओं में वृद्धि के लिए एकमात्र स्पष्टीकरण नहीं हो सकती है.

अब अगर जिओ के समूह की माने तो रात का प्रकाश प्राकृतिक मेलाटोनिन को दबाता है, जो कि एस्ट्रोजेन गतिविधि का एक न्यूनाधिक है. बहुत कम मेलाटोनिन गतिविधि ट्यूमर से लड़ने के लिए शरीर की क्षमता को कम करने में मदद कर सकती है, शोधकर्ताओं ने कहा कि रात में प्रकाश शरीर की सर्कैडियन लय को भी बाधित कर सकता है, जो कैंसर का जोखिम कारक भी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here