फर्राटा धावक प्रशांत देसाई ने दुबई पैरा एथलेटिक्स ग्रां प्री में भारत को दिलाया पहला स्वर्ण

140

भारत के फर्राटा धावक प्रशांत देसाई ने विश्व पैरा एथलेटिक्स ग्रां प्री में शानदार प्रदर्शन करते हुए स्वर्ण पदक अपने नाम कर लिया है. देसाई ने पुरुषों की 200 मीटर टी64 स्पर्धा के फाइनल मुकाबले में में पहला स्थान हासिल किया. इसके साथ ही भारत के 4 पदक हो गए हैं और वह 15वें स्थान पर पहुंच गया है. टी64 क्लासीफिकेशन पैर में विकार वाले खिलाड़ियों के लिए है जो प्रोस्थेटिक्स के साथ खड़े होकर खेलते हैं. देसाई ने ही भारत को इस दिन पहला पदक दिलाया जबकि थ्रो खिलाड़ी नाकाम रहे.

फाजा चैंपियनशिप के चैंपियन देसाई ने 24 . 42 सेकेंड में रेस पूरी की. वह थाईलैंड के डेंनपूम के और नॉर्वे के कीनिथ जेनसेन एच से आगे रहे. जीत के बाद प्रशांत देसाई ने कहा कि वह इस टूर्नामेंट में गोल्ड मेडल जीत के लक्ष्य के साथ आए थे. प्रशांत ने कहा, ‘ मैं यहां स्वर्ण पदक जीतने के इरादे से आया था. मुझे खुशी है कि रेस में मैंने शुरू से लेकर अंत तक बढ़त बनाए रखा. यहां वापस आकर मुझे अच्छा लगा. पिछले कुछ महीने से मैं अपनी गति पर काम करा हूं. खुश हूं कि मैं अपने प्लान पर खरा उतरा.’

पुरुषों के भालाफेंक एफ40 फाइनल में ईराक के नास अहमद ने 39 . 08 मीटर का भाला फेंककर स्वर्ण पदक जीता. दो दिन के बाद कोलंबिया 13 पदक के साथ शीर्ष पर है जबकि थाईलैंड दूसरे और ट्यूनीशिया तीसरे स्थान पर है.

बकौल प्रशांत देसाई, ‘ मेरा लक्ष्य एशियन पैरा गेम्स के 100मीटर और 200 मीटर स्पर्धा का गोल्ड जीतना है. इससे मेरी पेरिस पैरालंपिक 2024 की तैयारी होगी.’ 22 वर्षीय प्रशांत गांधी नगर स्थित भारतीय खेल प्राधिकरण में ट्रेनिंग लेते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here