डायबिटीज में शुगर लेवल कंट्रोल करने के लिए मूंग दाल हो सकती है फायदेमंद, ये दालें भी करेंगी मदद

42


डायबिटीज के इलाज में जितनी ज़रूरी दवाइयां हैं उतनी ही जरूरी डाइट है. हम क्या खाते हैं क्या पीते हैं इसका बहुत असर डायबिटीज पर पड़ता है. डॉक्टर डायबिटीज के मरीजों को प्रचुर मात्रा में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फैट, मिनरल और विटामिन युक्त चीजों का सेवन करने की सलाह देते हैं. मरीज का डाइट प्लान बहुत सारी चीजों पर निर्भर करता है, मरीज की उम्र, डायबिटीज की स्थिति, वजन समेत बहुत सारी चीजें हैं जो मरीज के डाइट प्लान को प्रभावित करती हैं. डायबिटीज के मरीजों को दाल प्रचुर मात्रा में खाने की सलाह दी जाती है, लेकिन दालों को लेकर भी नियम हैं. कौन सी दाल कितनी मात्रा में खाई जाएगी इसको भी निर्धारित किया जाता है. जैसे डायबिटीज के मरीजों को कहा जाता है कि ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए मूंग की दाल का सेवन करें. इसके अलावा भी कई दालों के उपयोग की बात बताई जाती है.

दालों को इस वजह से खाने की दी जाती है सलाह

डायबिटीज डॉट ओआरजी के अनुसार दालों में घुलनशील और अघुलनशील डायट्री फाइबर, कॉम्‍प्‍लेक्‍स कार्बोहाइड्रेट पाए जाते हैं. इसमें प्रचुर मात्रा में फाइबर पाया जाता है और साथ ही प्रोटीन की मात्रा भी अच्छी खासी होती है. इस वजह से दालों को डायबिटीज के मरीजों के लिए जरूरी होता है. अब दाल एक तरह की तो होती नहीं है, कई तरह की डालें हैं और अलग-अलग उनके फायदे भी हैं.

सबसे पहली बात मूंग दाल की ही करेंगे, मूंग दाल बनाकर खाया जा सकता है, इसके अलावा डॉक्टर्स एक और रूप में मूंग को खाने की सलाह देते हैं. वह है स्प्राउट्स के साथ. यहां पर आपको मूंग पहले भिगोनी है, रात भर उसे पानी में रहने देना है और सुबह नाश्ते में उस मूंग दाल को खा लेना है. डॉक्टर के हिसाब से यह बहुत फायदेमंद होता है और सुबह सुबह खाना और भी अधिक फायदेमंद होता है. इसको खाने से डायबिटीज, मोटापा और उच्च रक्त चाप में काफी आराम मिलता है.

इसके अलावा चने की दाल को भी काफी फायदेमंद माना जाता है. इसमें ग्‍लाइसेमिक इंडेक्‍स 8 से कम होता है. फोलिक एसिड के साथ साथ इसमें प्रचुर मात्रा में प्रोटीन भी पाया जाता है. और इसकी वजह से -नई लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण भी होता है जिसकी वजह से हमारा शरीर स्वस्थ होता है.

इसके अलावा राजमा की दाल भी काफी फायदेमंद मानी जाती है. इसका जीआई लेवल 19 होता है, राजमा फाइबर युक्त होता है इसकी वजह से ये रक्त के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है.

उड़द की दाल को भी डायबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद माना जाता है, इसका ग्‍लाइसेमिक इंडेक्‍स 43 होता है, ये प्रोटीन का भी अच्छा स्त्रोत है. डायबिटीज के मरीजों को अपने खानपान में उड़द की दाल को शामिल करना चाहिए.

यह थे उन दालों के नाम जो डायबिटीज के मरीजों और खास करके साथ में शुगर की समस्या से परेशान मरीजों के लिए काफी फायदेमंद हैं. खान-पान का ध्यान किसी भी बीमारी के इलाज में बेहद जरूरी है, और खास करके जब डायबिटीज जैसी बीमारी हो जो खान-पान की वजह से ही प्रभावित होती हो तब और भी ज्यादा जरूरी हो जाता है.



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here